Birthday Special Sridevi: रहस्यमयी मौत के साथ हर किसी को रुला गईं थीं ‘चांदनी’

Birthday Special Sridevi: रहस्यमयी मौत के साथ हर किसी को रुला गईं थीं ‘चांदनी’

Sridevi Biography in Hindi- भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में ना जाने कितने सितारे आए और गए लेकिन कुछ सितारों का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज हो चुका है। उनमें से एक थीं Sridevi जो भारतीय सिनेमा की पहली महिला सुपरस्टार थीं। श्रीदेवी ने 4 साल की उम्र से ही अभिनय की दुनिया में कदम रख दिया था और 16 साल की उम्र में सबके दिल छू जाने वाला किरदार निभाकर अपनी ऑडिएंस बनाती गईं। श्रीदेवी एक ऐसी एक्ट्रेस थीं जो अपनी दूसरी फिल्मी पारी सफलतापूर्वक शुरु कर चुकी थीं और इंडस्ट्री को अभी उनकी बहुत जरूरत थी लेकिन वे हम सबको छोड़कर अचानक चली गईं। इनकी मौत रहस्यमयी तरीके से हुई थी और इसके पीछे का कारण आज भी पता नहीं चला, फिलहाल बताते हैं आपको उनकी जिंदगी के कुछ खास पहलू।

श्रीदेवी का जन्म और परिवार

Sridevi
Image Courtesy : Loudest

Sridevi का जन्म 13 अगस्त, 1963 को तमिलनाडु के शिवाकाशी के एक तमिल परिवार में हुआ था। इनके पिता वकील थे और इनकी एक बहन और 2 सौतेले भाई थे। श्रीदेवी को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था और सिर्फ 4 साल की उम्र में ही उनका शौक प्रोफेशन बन गया। इन्हें 4 साल की उम्र में फिल्म थुनाईवन में पहली बार देखा गया था और इसके बाद कई तमिल फिल्मों में बाल कलाकार के रूप में काम किया था।इन्होंने बचपन में कई भक्ति फिल्मों में काम किया और लोग इन्हें बाल गोपाल भी कहने लगे थे। श्रीदेवी को लोगों ने शुरुआत में ही पसंद करना शुरु कर दिया था।

श्रीदेवी का करियर रहा बेमिसाल

Sridevi
Image Courtesy : matrubhumi

साल 1975 में श्रीदेवी बॉलीवुड फिल्म जूली में बाल कलाकार के रूप में नजर आईं। इसके 4 सालों के बाद Sridevi ने फिल्म सोलवां सावन किया लेकिन इन्हें हिंदी सिनेमा में पहचान फिल्म हिम्मतवाला से मिली। इसमें इनके अपोजिट जितेंद्र थे और ये फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई थी। 13 साल की उम्र में श्रीदेवी ने फिल्म मोन्दरु मूडीचु में रजनीकांत की सौतेली मां बनकर पर्दे पर आई थीं। श्रीदेवी ने हर मुश्किल काम का सामना हंसते हुए किया इसलिए उन्हें हमेशा कामयाबी मिल जाती थी। श्रीदेवी ने जब हिंदी सिनेमा में कदम रखा तब उन्हें हिंदी बोलने में समस्या होती थी जब उनकी फिल्मी किरदार को नाज द्वारा डब किया जाता था। इनके अलावा रेखा ने फिल्म आखिरी रास्ता के लिए नाज से ही डब करवाया था। श्रीदेवी ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक शानदार फिल्मों में काम किया और उन्हें भारतीय सिनेमा की पहली सुपरस्टार का खिताब भी दिया गया। इस दौरान श्रीदेवी को पद्मश्री, ANR नेशनल अवॉर्ड, नंदी अवॉर्ड, तीन बार फिल्म फेयर, केरल स्टेट अवॉर्ड, जी सिने अवॉर्ड जैसे कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।

50 साल के करियर में की 300 से ज्यादा फिल्में

Sridevi
Image Courtesy : timesofindia

Sridevi का फिल्मी करियर 50 सालों का था और इस दौरान इन्होंने ना जाने कितनी फिल्में की। इन्होंने तमिल, तेलुगू, मलयालम, कन्नड़, मराठी, हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं की फिल्मों में काम किया। बॉलीवड में श्रीदेवी ने नगीना, चांदनी, जुदाई, मॉम, मिस्टर इंडिया, इंग्लिश विंग्लिश, चालबाज, खुदा गवाह, लाडला, लम्हे, हिम्मतवाला, सदमा, निगाहें, तोहफा, हीर रांझा, घर संसार, आखिरी रास्ता, जांबाज, कर्मा, जस्टिस चौधरी, इंकलाब और जाग उठा इंसान जैसी कई सफल फिल्में की हैं। श्रीदेवी अपने करियर की दूसरी पारी में मॉम और इंग्लिश-विंग्लिश जैसी सफल फिल्में दी और आगे भी उनके पास कुछ प्रोजेक्ट्स थे।

श्रीदेवी की शादी और अफेयर्स (Sridevi marriage life)

Sridevi
Image Courtesy : India Today

श्रीदेवी का दिल एक्टर मिथुन पर आ गया था और दोनों एक-दूसरे को इतना पसंद करते थे कि गुपचुप तरीके से शादी भी कर ली। इसके बाद मिथुन अपनी पत्नी को तलाक के लिए मनाना चाहते थे और तब के लिए श्रीदेवी को बोनी कपूर की पत्नी से बात करके उनके घर पर रहने को कहा। बोनी कपूर की पत्नी ने दोस्ती के नाते Sridevi को घर में जगह दी मगर किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। मिथुन अपनी पत्नी को मना नहीं पाए और श्रीदेवी से अलग होना पड़ा तो वहीं श्रीदेवी के दिल में बोनी कपूर घर बनाने लगे। हद तब हुई जब साल 1996 में श्रीदेवी की प्रेग्नेंसी की खबर बोनी कपूर की पत्नी को चली। उन्होंने अपने बच्चों (अर्जुन और अंशुल) के साथ घर छोड़ दिया और बोनी को प्रेग्नेंट श्रीदेवी से शादी करनी पड़ी। श्रीदेवी को उस समय बेटी जाह्नवी कपूर हुईं और फिर साल 2003 में बेटी खुशी हुईं।

रहस्यमयी रही श्रीदेवी की मौत (Death of Sridevi)

Sridevi
Sridevi

फरवरी, 2018 में श्रीदेवी अपने परिवार के साथ भांजे की शादी में गई थीं। सभी लौट आए लेकिन वे कुछ दिन रहना चाहती थीं क्योंकि उन्हें जाह्नवी के लिए बर्थडे गिफ्ट लेना था। बोनी कपूर के मुताबित वे 24 फरवरी को दुबई श्रीदेवी को सरप्राइज देने पहुंचे और फिर दोनों ने साथ में शॉपिंग और डिनर करने का प्लान बनाया। बोनी कपूर टीवी देख रहे थे और श्रीदेवी तैयार होने गईं जब देर होने पर कोई आवाज नहीं आई तो बोनी कपूर बाथरूम में देखने गए। वहां पहुंचते उनके होश उड़ गए, श्रीदेवी बाथटप में मरी हुई पड़ी थीं। बोनी कपूर को कुछ समझ नहीं आया कि वे क्या करें उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन तब श्रीदेवी दम तोड़ चुकी थीं। अब इसपर कई कयास लगाए जा रहे हैं कि बाथटब में गिरकर किसी की मौत कैसे हो सकती है। कुछ लोगों का दावा है कि उनकी हत्या की गई है लेकिन सच्चाई क्या है ये Sridevi ही जानती होंगी जो उनके साथ चली गई।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *