भारत की 10 बड़ी Online Companies के बारे में जानते हैं आप ?

आजकल Online Shopping का भूत सबपर सवार है और हो भी क्यों ना एक क्लिक पर अगले दिन आपका प्रोडक्ट आपके पास आ जाता है. online में भारत की ताकत को पूरी दुनिया में माना गया और भारत के युवाओं की मेहनत का ही नतीजा है कि आज करीब सभी बड़ी online कम्पनीज भारतीय ही है.

ऑनलाइन कंपनियों से शॉपिंग करने पर आपको बेस्ट प्राइज और ऑफर्स भी मिल जाते हैं. इसके अलावा आपको प्रोडक्ट की कई वैराइटी भी मिल जाती है जो मार्केट में खूब ढूंढने पर भी नहीं मिल पाती. इसके अलावा बस हो या टैक्सी, घर हो या कोई सेकेंड हैंड चीज लेना हो सब इन कंपनीज में मिल जाता है. आज रोचक सफर आपको 10 बड़ी ऑनलाइन कंपनीज के बारे में बताएंगे. 10 Online Companies In Hindi..

1. Flipkart :

Online
Image Courtesy : Digit

Flipkart.com की शुरुआत सचिन बंसल और बिन्नी बंसल ने मिलकर साल 2007 में तब की थी जब भारतीय इ-कॉमर्स industry अपने शुरूआती चरण में थी. दरअसल सचिन बंसल और बिन्नी बंसल दोनों ही शुरू में amazon.com में काम करते थे और इसी दौरान इन्हें आईडिया आया की क्यों न खुद की एक इ-कॉमर्स कंपनी खड़ी की जाएँ. अपने शुरुआत में Flipkart.com सिर्फ online बुक्स ही बेचता था लेकिन जल्द ही इन्होने फ्लिपकार्ट में कई बदलाव शुरू किये और नए नए प्रोडक्ट भी अपनी सेल्स लिस्ट में जोड़ते गये. फ्लिपकार्ट ने ही सबसे पहले ‘कैश ऑन डिलीवरी’ की सेवा शुरू की थी.

आज Flipkart.com, amazon.com को टक्कर देने के लिए कुछ कंपनियों का अधिग्रहण भी कर चूका है जैसे : myntra.com, letsbuy.com, Weread, Chakpak or Mime360. अभी तक Flipkart.com 2.5 बिलियन डॉलर की फंडिंग अपने 6 इन्वेस्टर से लगभग 11 राउंड में हासिल कर चूका है. इसके इन्वेस्टर में ‘टाइगर ग्लोबल’, ‘नेस्पर्स’, ‘DST ग्लोबल’ आदि है.

2. Snapdeal :

Image Courtesy : Technitab

भारतीय इ-कॉमर्स कम्पनीज में स्नेपडील की अपनी एक अलग ही पहचान है और यह भारतीय इ-कॉमर्स industry में टॉप 3 में आती है. साल 2010 में कुनाल बहल और रोहित बंसल ने अपना एक अलग ही काम करने की सोची और ऑफलाइन कूपन बिज़नस स्टार्ट किया, जिसे नाम दिया गया ‘MoneySaver’, इसकी शुरूआती चरण में इसे कामयाबी भी मिली और शुरू के 3 महीनो में ही इन्होने 15,000 कूपन्स बेच दिए. अब समय था कंपनी को अगले चरण में ले जाने का.

इसके बाद यह अपनी पहली इन्वेस्टर ‘वाणी कोला’ से मिले और वाणी कोला की वेंचर फर्म ने स्नेपडील में इन्वेस्ट करने का फैसला किया. इस तरह से Snapdeal पहली बार 2010 में online कंपनी के रूप में प्रतिष्ठित हुई.

आज की तारीख में Sanpdeal की मार्किट वैल्यू लगभग 2 बिलियन डॉलर आंकी जाती है और इन्होने करीब 1.1 बिलियन डॉलर की फंडिंग अपने 16 इन्वेस्टर से लगभग 8 round में हासिल की है.

3. Zomato :

Image Courtesy : BW Disrupt

पंकज चड्डा और देपेंदर गोयल ने Zomato की शुरुआत साल 2008 की थी तब इन्होने इसे foodiebay नाम दिया था. Zomato अपने कस्टमर्स को online रेस्टोरेंट सर्च प्रोवाइड कराती है. साल 2010 में नए फीचर्स के साथ foodiebay को नया नाम दिया गया “Zomato”.
आज की तारीख में Zomato, 19 देशो के 3,00,000 रेस्टोरेंट्स की जानकारी मुहैया कराती है. Zomato की वर्तमान वैल्यू लगभग 660 मिलियन डॉलर है और इसने अपने 3 इन्वेस्टर से 6 round में 113.8 मिलियन डॉलर रकम जुटाई है.

4. Paytm :

Online
Image Courtesy : Techfactslive

उत्तर प्रदेश के अलीगढ में पलें बढें ‘विजय शेखर’ ने अपने शुरूआती दौर में ‘ग्लोबल कॉर्पोरेट वर्ल्ड’ की नौकरी छोड़, साल 1998-1999 में ‘वेब सोल्यूशंस एक्सेस कॉर्पोरेशंस’ की स्थापना की जिसे इन्होने एक साल बाद USA की कंपनी को बेच दिया. साल 2001 में विजय ने One97Communications’ की स्थापना की जो म्यूजिक मेसेज, कंटेंट सर्विस देती है.

साल 2010 में One97 के अंतर्गत ‘PayTM’ की लौचिंग हुई और कंपनी के लिए मील का पत्थर साबित हुई. PayTM अपने कस्टमर्स को online फ़ोन रिचार्ज, पेमेंट फैसिलिटी और शौपिंग सुविधा देती है और आज भारत की सबसे बड़ी online कम्पनीज में से एक है. वर्तमान में PayTM की वैल्यू लगभग 1.5 बिलियन डॉलर है.

5. InMobi :

Image Courtesy : LinkedIn

InMobi की स्थापना 8 साल पहले IIT के चार छात्र नवीन तिवारी, अमित गुप्ता, अभय सिंघल और मोहित सक्सेना ने मिलकर की थी. आज की तारीख में InMobi दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी mobile advertiment कंपनी बन चुकी है.

InMobi की वैल्यू आज की तारीख में लगभग 2.5 बिलियन डॉलर आंकी जाती है. InMobi अब तक करीब 220.6 मिलियन डॉलर के इन्वेस्ट हासिल कर चुकी है.

6. RedBus :

Image Courtesy : E-Cell IIT Bombay

RedBus.in सबसे तेजी से तरक्की करने वाली भारतीय कम्पनीज में से एक है. इसकी शुरुआत साल 2006 में तीन इंजिनियर दोस्तों फणीन्द्र समां, चरण पद्मराजू और सुधाकर पसुपुनुरी ने मिलकर थी. यह तीनो साथ में ही पढाई कर चुके है और नौकरी भी. आज RedBus.in लगभग 700 बस ऑपरेटर्स के साथ मिलकर 15 राज्यों में काम कर रहे है और प्रतिदिन 5,000 बस टिकट्स बेचते है.

7. OlaCabs :

Image Courtesy : Zee Business

अंकित भाटी और भावेश अग्रवाल ने मिलकर साल 2010 में OlaCabs की स्थापना की थी. OlaCabs की वर्तमान वैल्यू लगभग 1 बिलियन डॉलर है और 276.8 मिलियन डॉलर की फंडिंग लगभग 9 इन्वेस्टर्स से हासिल की है.

अक्टूबर 2014 में जापानी कंपनी SoftBank corporation ने OlaCabs में लगभग 210 मिलियन डॉलर का इन्वेस्ट किया है.

8. Housing :

Image Courtesy : techlomedia

Housing.com की स्थापना साल 2012 में IIT मुंबई के 12 छात्रो ने मिलकर करी थी, अभी इसमें 9 फाउंडर ही काम कर रहे है. Housing.com एक online Real Estate पोर्टल है जो अपने यूजर को आसानी से प्रॉपर्टी सर्च करने, किराए पर लेने और खरीदने बेचने जैसे कामो में सहायता करता है.

Housing.com की वर्तमान वैल्यू करीब 250 मिलियन डॉलर लगाई जाती है. exus Venture Partners, Qualcomm Ventures, Helion Venture Partners और कुछ अन्य ने Housing.com में लगभग 139.5 मिलियन डॉलर का इन्वेस्ट किया है. साल दिसम्बर 2014 में जापानी कंपनी SoftBank ने Housing.com में 90 मिलियन डॉलर का इन्वेस्ट किया है.

9. Shopclues.com :

Image Courtesy : BGR India

Shopclues.com की स्थापना 2011 में की गयी थी जिसका ऑफिस गुडगाँव में स्थित है और 12,000 से भी ज्यादा मर्चेंट इसके साथ जुड़े हुए है. Shopclues.com, देश के 10,000 शहरो में 30 दिन की रिटर्न पालिसी के साथ काम करती है.

वर्तमान में Shopclues.com की मार्किट वैल्यू करीब 500 मिलियन डॉलर है, जिसमे विभिन्न कम्पनीज ने लगभग 116.3 मिलियन डॉलर की इन्वेस्ट किया है.

10. Quikr.com :

Online
Image Courtesy : OfficeChai

online क्लासिफाइड ऐड कंपनी Quikr.com की स्थापना प्रणव चुलेट और जिबी थॉमस ने साल 2008 में की थी. Quikr.com भारत की सबसे बड़ी online क्लासिफाइड ऐड नेटवर्क कंपनी है जो मुंबई में स्थित है. Quikr.com की करंट मार्किट वैल्यू 1 बिलियन डॉलर मानी जाती है. 9 इन्वेस्टर्स ने Quikr.com में 346 मिलियन डॉलर का इन्वेस्ट किया हुआ है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*