Pregnancy से जुड़े ये फैक्ट्स मां बनने के बाद भी शायद ही कोई महिला जानती हो

Pregnancy
Image Courtesy : BabyCenter

दुनिया में सबसे प्यारा रिश्ता होता है एक मां का अपने बच्चे से. एक औरत के लिए मां बनना दुनिया का सबसे खूबसूरत एहसास होता है, लेकिन असली जिम्मेदारी शुरु होती है मां बनने के बाद. जब कोई महिला माँ बनने (Pregnancy) वाली होती है, तो उसे सलाह देने वाले बहुत मिल जाते हैं. पूरा परिवार उसकी देख-रेख में लग जाता है. घर के बड़े ही नहीं बल्कि डॉक्टर्स भी गर्भवती महिला को सलाह देने लगते हैं, जिससे वो एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दे सके.

Pregnancy
Image Courtesy : BabyCenter

मां बनने के लिए हर महिला को बहुत कष्ट भी सहना पड़ता है. वैसे तो महिलाओं को डिलीवरी के बाद बच्चे का ध्यान कैसे रखा जाए, क्या किया जाए, क्या न किया जाए इन सबकी बहुत बातें सिखाई जाती है लेकिन पोस्ट प्रेग्नन्सी से जुड़ी कुछ बातें शायद ही कोई गर्भवती महिला को बताया गया हो. तो चलिए आज हम आपको ऐसे ही कुछ बातों के बारे में बताते हैं…

1. अगर आपके साथ ऐसा हो या आपने कही देखा हो तो घबराइएगा नहीं. बच्चे को जन्म देने के लिए जोर लगाना होता है और इस दौरान ‘पूप’ हो जाना कोई बड़ी बात नहीं है. वैसे भी कभी-कभी तो शौच के दौरान ही बच्चा जन्म ले लेता है.

2. अगर वैजाइनल चाइल्डबर्थ हुआ है तो वैजाइना हमेशा ही ब्रॉड नहीं रहने वाला है. यह समय के साथ श्रिंक हो जाता है और नार्मल स्थिति में आ जाता है.

Pregnancy
Image Courtesy students4bestevidence:

3. यूटेरस में बेबी होता है, इसलिए ‘बेबी बम्प’ दिखाई देता है, तो जब बेबी का जन्म हो गया तो इसे नार्मल हो जाना चाहिए. हैं न? लेकिन ऐसा होता नहीं है. माँ का ‘बम्प’ चाइल्डबर्थ के तुरंत बाद श्रिंक नहीं हो जाता. उसे ठीक होने में कुछ समय लगता है.

4. चाइल्डबर्थ के बाद कुछ दिनों तक colostrum (प्रीमिल्क) प्रोड्यूस होता है. नार्मल ब्रेस्ट मिल्क प्रोड्यूस होने में कुछ दिनों का वक़्त लगता है.

5. अगर किसी महिला को अपने न्यूबॉर्न बेबी में या उसकी किसी भी आदत में कुछ भी बदलाव दिखेगा, तो उसे लगेगा कि बच्चे के साथ सब ठीक तो है न ? आज के समय की मां के पास तो गूगल है. वो दिन में 50 बार इन बदलावों के बारे में सर्च कर लेती हैं.

6. अक्सर मां अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों से करने लगती है. ये हर मां के अंदर होता है, वो ऐसा इसलिए करती है क्योंकि ऐसा करने से ही मां अपने बच्चे को सबसे बेहतर बनाने में सफल होती है. लेकिन एक मां के लिए उसका बच्चा ही बेस्ट होता है चाहे वो जैसा भी हो.

Pregnancy
Image Courtesy : BabyCenter

7. आमतौर पर तो यही माना जाता है कि माँ को घर और बच्चे संभालना है और पिता को नौकरी व घरखर्च. लेकिन यह बिलकुल भी सही नहीं है. बच्चे की जिम्मेदारी माता-पिता दोनों की होती है और उन्हें इसी तरह काम करना चाहिए.

8. वैसे तो कोई इंसान कभी भी सब कुछ नहीं सीख सकता है. पेरेंटिंग के समय मां बहुत सी किताबें पढ़ती है लेकिन जब कोई ऐसी स्थिति आ जाए तो मां को कुछ बताना नहीं पड़ता बल्कि वो खुद का दिमाग लगाकर उससे निपटना पड़ता है.

9. माँ बनने के बाद महिलाओं में सिर्फ शारीरिक ही नहीं, बल्कि कई मानसिक बदलाव भी आते हैं. वे पहले से ज्यादा भावुक हो जाती है. वो अपनी कमजोरियों और ताकतों को और बेहतर तरीके से समझने लगती है. इसके साथ ही वे और जिम्मेदार बन जाती है.

Pregnancy
Image Courtesy : Pacific Standard

10. जब कोई महिला अपने अंदर से एक बच्चे को जन्म देती है तब उसका दूसरा जन्म होता है ये बात सभी जानते हैं लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि जितना प्यार और दुलार उस बच्चे को मिलता है उतना ही उस महिला को भी चाहिए होता है.

11. Pregnancy सिर्फ उस महिला के लिए नहीं होनी चाहिए जो बच्चे को जन्म देने वाली हो बल्कि उस कपल के लिए होनी चाहिए जिसका वो बच्चा हो. होने वाले माता-पिता दोनों को साथ में जिम्मेदारी उठाकर 9 महीने बिताने चाहिए. पिता को मां बनने वाली (Pregnant) महिला का पूरा साथ देना चाहिए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*